मनोविज्ञान (Psychology)

मनोविज्ञान क्या है ? (What is psychology)

◆ मनोविज्ञान की उत्पत्ति ‘दर्शनशास्त्र’ से हुई है ।

◆ दर्शनशास्त्र से मनोविज्ञान को अलग करने का श्रेय प्लेटो, अरस्तु व देकार्ते को दिया जाता है

◆ मनोविज्ञान का जनक देश – ग्रीक या यूनान को माना जाता है।

मनोविज्ञान (Psychology)

‘सायकोलॉजी’ शब्द लैटिन भाषा के 2 शब्दों के युग Psyche + Logus से बना है जहां Psyche का अर्थ है Soul (आत्मा) तथा logus का अर्थ है Science (विज्ञान).

मनोविज्ञान वह विधायक विज्ञान है जो मनुष्य और पशुओं के उस व्यवहार का अध्ययन करता है जो व्यवहार उनके उस अंतर्गत मनोभाव और विचारों की अभिव्यक्ति करता है जिसे हम मानसिक जगत भी कहते हैं.

Some Important Facts :-

◆ मनोविज्ञान को आत्मा का विज्ञान मानने वाले दार्शनिक – अरस्तु ,प्लेटो, देकार्ते

◆ मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान मानने वाले मनोवैज्ञानिक – विलियम वुंट, विलियम जेम्स

◆ मनोविज्ञान को मानव मस्तिष्क का विज्ञान मानने वाले मनोवैज्ञानिक- इटली के पोम्पोनोजी

◆ मनोविज्ञान को व्यवहार का विज्ञान मानने वाले मनोवैज्ञानिक – पावलव , थॉर्डाइक ,स्किनर, हल ,ग्रूथरी

◆ मनोविज्ञान के लिए सायकोलॉजी शब्द का प्रारंभिक प्रयोग 1590 ई. में रूडोल्फ गॉलकाय है ( Book – Psychology)

◆ शिक्षा में मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण का सूत्रपात – रूसो

◆ प्रथम मनोवैज्ञानिक प्रयोगशाला की स्थापना – 1879

मनोवैज्ञानिक – विलियम वुंट

स्थान – जर्मनी

◆ भारत में मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला – 1916

मनोवैज्ञानिक – एन. एन. सेनगुप्ता

स्थान – कोलकाता

◆ आधुनिक मनोविज्ञान के जनक / मनोविज्ञान के वास्तविक संस्थापक – विलियम जेम्स

इनकी पुस्तक – Principal of Psychology (रचना – 1890)

◆ मनोविज्ञान में व्यक्तिगत अध्ययन हेतु प्रश्नावली विधि का सर्वप्रथम निर्माण – वुडवर्थ

◆ बुद्धि लब्धि का सूत्र सर्वप्रथम – स्टर्न एवं संशोधित सूत्र- टर्मन